पंजीकरण फॉर्म (नियम और शर्ते)

पंजीकरण फॉर्म भरने के लिए निर्देश
ऑन-लाइन आवेदन पत्र भरने के लिए आगे बढ़ने से पहले, उम्मीदवारों को निम्नलिखित निर्देश दिए गए हैं जो अनुभाग ए को दिए गए हैं।

1. मै ब्राह्मण समाज के लिए सदैव तत्पर रहूंगा।


2. मै आवश्यकता अनुसार समाज एवं संस्था के वरिष्ठ पदाधिकाियों से मार्गदर्शक के रूप में सहयोग लेने में अपने आप को कभी छोटा महसूस नहीं करूंगा।


3. मै संस्था एवं संस्था से जुड़े सभी ब्राह्मण बंधुओ के सम्मान में अपनी तरफ से कोई कमी नहीं आने दूंगा।


4. यदि समय अनुसार मेरे कार्यों के विश्लेषण के बाद मेरी संस्थागत जिम्मेदारी बढ़ाई जाती है तो भी, मै अपने सदस्यों को अपने से वरिष्ठ समझकर उनसे वार्ता करूंगा।


5. यदि मै अपने कार्यभार का निर्वाह नहीं कर सकता हूं तो मै अपने उच्च पदाधिकारी को अपना त्याग पत्र दे सकता हूं।


6.यदि किसी कारण बस मेरे पद में परिवर्तन होता है और मेरे उच्च पदाधिकारी द्वारा कार्यभार दिया जाता है तो मै उस पद पर कार्य करने के लिए वचनबद्ध हूं।


7. यदि मै समाज में सक्रिय नहीं हूं या समयानुसार प्रदेश या देश से बाहर हूं तो भी मै अपने पद पर स्थिर रहकर अपने अनुपस्थिति में ब्राह्मण समाज के उत्थान हेतु यथा संभव आर्थिक मदद एवं एक पदाधिकारी को अपनी जिम्मेदारी देने हेतु वचनबद्ध हूं।


8. मै अपने संस्था एवं ब्राह्मण समाज के विस्तार हेतु (सदस्य/ग्राम,ब्लाक,तहसील,जिला) पदाधिकारी होने के उपरांत प्रतेक वर्ष के लिए संस्था द्वारा निर्धारित सदस्यता शुल्क देने हेतु वचनबद्ध हूं।


9. संस्था के पदाधिकारी द्वारा किया गया कार्य एवं प्राप्त धन राशि का विवरण जानने का पूरा अधिकार है।


10. संस्था द्वारा मुझे मेरा प्रमाण पत्र (पहचान पत्र, न्युक्ति पत्र, या अन्य कोई भी पत्र) निशुल्क दिया जाएगा।


11. संस्था का मूल उद्देश्य एवं एक संस्था के जो भी कागजी विवरण होता है वह जानकारी मुझे संस्था द्वारा उपलब्ध कराई जाएगी।


12. यदि किसी कारण बस मै लगातार 3 महीने सक्रिय नहीं दिखा तो संस्था द्वारा मुझे अपनी विफलताओं का विवरण देने हेतु एक महीने का नोटिस दिया जाएगा।


13. यदि मेरे द्वारा किसी भी नोटिस का प्रतिउत्तर नहीं दिया गया तो संस्था के वरिष्ठ पदाधिकारी मुझे मेरे पद एवं सदस्यता से मुख्य कर सकते है।


14. संस्था में जुड़ने के उपरांत अपने सुख दुख में आशा करता हूं कि संस्था से जुड़े लोग सदैव सहयोगपूर्ण रहेंगे और मै भी उनके परिवार हेतु सहयोगपूर्ण रहूंगा।


15. किसी कारण बस मै संस्था के विरूद्ध कार्यों में पाया जाता हूं एवं मेरे द्वारा किया हुआ कार्य संस्था की गरिमा को ठेस पहुंचाता है तो संस्था द्वारा मुझे लिखित उचित जानकारी दे कर मेरे पद एवं सदस्यता रद कर सकता है।